Thursday, September 29, 2022
Home उत्तराखंड उत्‍तराखंड में 305 करोड़ की वित्तीय गड़बड़ी

उत्‍तराखंड में 305 करोड़ की वित्तीय गड़बड़ी

देहरादून। भारत के नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक (कैग) की रिपोर्ट में 305.75 करोड़ रुपये के कार्यों/योजनाओं में वित्तीय गड़बड़ी पकड़ी गई है। यह रिपोर्ट 31 मार्च, 2020 को समाप्त हुए वित्तीय वर्ष के कार्यों की है।

शनिवार को इस रिपोर्ट को गैरसैंण में विधानसभा सत्र के दौरान पटल पर रखा गया। मुख्य रिपोर्ट में विभिन्न विभागों के लेखा परीक्षण के साथ ही भारत नेपाल सीमा सड़क परियोजना (टनकपुर-जौलजीबी मार्ग) की खामियों को विस्तृत ढंग से उजागर किया गया है। इसके अलावा कैग ने स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति को भी अलग रिपोर्ट के माध्यम से कठघरे में खड़ा किया है।

वित्तीय गड़बड़ि‍यों की बात करें तो टनकपुर-जौलजीबी मार्ग पर नियमों की अनदेखी व ठेकेदार की लापरवाही से सरकार पर 1.92 करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ भी पड़ा। साथ ही इस परियोजना का थर्ड पार्टी ऑडिट भी न कराया जाना पाया गया। वहीं, 9.21 करोड़ रुपये के ऐसे व्यय थे, जिन्हें मनमर्जी से भिन्न मद में खर्च कर दिया गया। कैग ने इस बात पर भी आपत्ति लगाई है कि सामरिक महत्व की परियोजना अधिकारियों की लापरवाही से वर्ष 2012-13 से अब तक लंबित है।

इससे परियोजना की लागत भी बढ़ रही है। उधर, स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट में कैग ने बताया है कि रोगी भार के मुताबिक जो संसाधन राज्य में जुटाए जा रहे हैं, वह मार्च 2011 के शासनादेश के अनुरूप हैं। वर्ष 2014 से 19 तक इसमें किसी तरह के संशोधन नहीं किए गए। पर्वतीय क्षेत्रों में चिकित्सकों की भारी कमी है, जबकि मैदानी क्षेत्रों में यह अनुपात ठीक है। इसके अलावा भी तमाम बिंदुओं पर स्वास्थ्य विभाग की कार्यप्रणाली को कठघरे में खड़ा किया गया है। कैग की रिपोर्ट लोनिवि, राजस्व/कर संबंधी विभागों आदि के कार्यों व सेवाओं की अनियमितता भी उजागर की गई हैं। कर वसूली में ही कैग ने 240 करोड़ रुपये से अधिक की क्षति सरकार को पहुंचाने का जिक्र रिपोर्ट में किया है।

चार साल में 52 फीसद बढ़ा राज्य का खर्च

कैग रिपोर्ट में वर्ष 2014-15 से वर्ष 2018-19 के दौरान राज्य की वित्तीय स्थिति पर भी फोकस किया गया है। बताया गया है कि राज्य के कुल खर्चे 26 हजार, 254 करोड़ रुपये से बढ़कर 38 हजार, 564 करोड़ रुपये हो गए हैं। यानी चार साल में खर्चों में 21 हजार, 164 करोड़ रुपये का इजाफा (52 फीसद) हुआ है। इन खर्चों में भी 81 से 84 फीसद सिर्फ राजस्व व्यय जैसे वेतन, प्रशासनिक आदि शामिल हैं। चार सालों में राजस्व व्यय 15 फीसद सालाना दर से बढ़ा, जबकि राजस्व प्राप्तियां 13 फीसद की सालाना औसत दर से ही बढ़ पाईं। थोड़ा राहत की बात यह जरूरी दिखी कि वर्ष 2017-18 में जो राजस्व प्राप्ति 27 हजार 105 करोड़ रुपये थी, वह वर्ष 2018-19 में बढ़कर 31 हजार 216 करोड़ रुपये हो गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Post

9

6

कैबिनेट मंत्री धन सिंह रावत ने लोनिवि की समीक्षा बैठक में सड़कों के डामरीकरण एवं मरम्मत के दिए निर्देश

छह माह में पूर्ण हो निर्माणाधीन मोटरमार्गों का कार्यः डॉ0 धन सिंह रावत शीघ्र हो पूरा मुख्यमंत्री घोषणा के तहत स्वीकृत सड़कों का कार्य वन विभाग...

धामी सरकार ने तबादलों के नियम बदलकर दी कर्मचारियों को बड़ी राहत, जानिए नये नियमों से कैसे होंगे तबादले

उत्तराखंड , देहरादून। उत्तराखंड की धामी सरकार ने तबादलों के नियम बदलकल कर्मचारियों को बड़ी राहत दी है। राज्य में परिवहन, माध्यमिक शिक्षा, उच्च शिक्षा,...

सफेद दाढ़ी, बिखरे बालों में दिखे अक्षय, राम सेतु का मच-अवेटेड टीजर हुआ आउट

  बच्चन पांडे, पृथ्वीराज, रक्षाबंधन के बाद अब अक्षय कुमार जैकलीन फर्नांडीस और नुसरत भरुचा के साथ मिलकर लेकर आ रहे है राम सेतु। फिल्म...

मुख्य सचिव डॉ. एस. एस. संधु ने प्रदेश में बनाई जाने वाली नई पार्किंग प्रोजेक्ट्स की प्रगति की समीक्षा की।

उत्तराखंड,  मुख्य सचिव डॉ. एस. एस. संधु ने सोमवार को सचिवालय में प्रदेश में बनाई जाने वाली नई पार्किंग प्रोजेक्ट्स की प्रगति की समीक्षा की।...

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने 30 सितम्बर को लाल परेड ग्राउण्ड भोपाल में होने वाले कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा

मध्यप्रदेश ; मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान भोपाल में लाल परेड ग्राउंड पर आगामी 30 सितंबर को प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को लैपटॉप वितरण के प्रदेश स्तरीय कार्यक्रम...

7

उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने प्रदेश में समूह-ग की 12 और भर्तियों का कैलेंडर किया जारी, पढ़िए पूरी खबर

देहरादून।  उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने प्रदेश में समूह-ग की 12 और भर्तियों का कैलेंडर जारी कर दिया है। आयोग ने इन भर्तियों के विज्ञापन...

बुधनी में 29 सितम्बर को होंगे औद्योगिक क्लस्टर्स के शिलान्यास और लोकार्पण

मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि युवाओं सहित प्रदेश के ऐसे सभी लोगों को जो जीविका चलाने के लिए काम करना चाहते...