Breaking News
आपदा की गलत सूचना प्रसारित करने वाले पर मुकदमा
एससी एसटी (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत लंबित मामलों के निस्तारण पर जोर
जब मुंबई में बदरीनाथ मंदिर बना था, तब क्यों चुप थे कांग्रेसी
प्रभारी रावल पद पर विराजमान हेतु श्री बदरीनाथ धाम में धार्मिक अनुष्ठान हुए शुरू
राजस्थान- सीआईएसएफ अधिकारी को स्पाइसजेट एयरलाइंस की महिला कर्मचारी ने मारा थप्पड़
पीएम मोदी का रूस में भव्य स्वागत, एयरपोर्ट पर गार्ड ऑफ ऑनर से सम्मानित
सीएम धामी ने गौला नदी से हुए भू-कटाव का किया निरीक्षण, दिए ये निर्देश
महाराज के प्रयासों से सतपुली झील निर्माण को नाबार्ड से 5634.97 लाख की धनराशि स्वीकृत
भारी वर्षा के कारण अब तक 387 सड़के बंद हैं जिनमें से 62 को खोल दिया गया है- महाराज

अपनी डाइट में इन 5 खाद्य पदार्थों को जरूर करें शामिल, याददाश्त बढ़ाने में करेगा मदद

♣♣♣

मस्तिष्क कोशिकाएं या न्यूरॉन्स आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन से प्रभावित हो सकते हैं।वसा और शर्करा से भरपूर खाद्य पदार्थ मस्तिष्क के न्यूरॉन्स में सूजन पैदा करके नुकसान पहुंचा सकते हैं।इससे मस्तिष्क के कामकाज पर असर पड़ सकता है और अवसाद समेत कमजोर याददाश्त जैसी समस्याएं हो सकती हैं।इन समस्याओं से सुरक्षित रहने के लिए अपनी डाइट में इन 5 खाद्य पदार्थों को जरूर शामिल करें।

ब्लूबेरीज
रोजाना ब्लूबेरीज का सेवन करना मानसिक स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हो सकता है।इनमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट मस्तिष्क को ऑक्सीडेटिव तनाव से बचाने और सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं।इसके अतिरिक्त ब्लूबेरी में मौजूद फ्लेवोनोइड विशेष रूप से मस्तिष्क के उन क्षेत्रों को लक्षित करते हैं, जो याददाश्त और सीखने से जुड़े होते हैं।यहां जानिए ब्लूबेरीज के सेवन से मिलने वाले अन्य फायदे।

अखरोट
अखरोट ओमेगा-3 फैटी एसिड का एक बड़ा स्त्रोत है, जो मस्तिष्क के कार्य के लिए जरूरी है।इसमें विटामिन-श्व भी होता है, जो एक और शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट है। अध्ययनों से पता चला है कि अपनी डाइट में अखरोट को शामिल करने से याददाश्त, सीखने की क्षमता और संज्ञानात्मक कार्य में सुधार हो सकता है।अखरोट का सेवन करने से आपको तनाव से छुटकारा मिलने के साथ-साथ बेहतर नींद भी प्राप्त हो सकती है।यहां जानिए अखरोट के अन्य फायदे।

संतरा
संतरे में विटामिन-सी और एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं, जो न्यूरोडीजेनेरेटिव विकार के जोखिम को कम करने और याददाश्त को मजबूत बनाए रखने में मददगार है।एक अध्ययन के अनुसार, इसमें मौजूद बायोफ्लेवोनॉइड्स में एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाते हैं और आपके मस्तिष्क के स्वास्थ्य को बढ़ावा देते हैं।इसके अलावा यह समय के साथ याददाश्त कमजोर होने के जोखिम को कम करता है।

हरी पत्तेदार सब्जियां
केल, पालक और मेथी जैसी हरी पत्तेदार सब्जियों को नियासिन और विटामिन-श्व जैसे पोषक गुणों का अच्छा स्रोत माना जाता है। ये दोनों गुण मस्तिष्क को स्वस्थ बनाए रखने में सहायक हो सकते हैं।यही नहीं, ये गुण अल्जाइमर (याददाश्त संबंधी रोग) और उम्र के साथ दिखाई देने वाली मानसिक कमजोरी को भी कम करने में सक्षम है।इस आधार पर कहा जा सकता है हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन मस्तिष्क कार्यप्रणाली में सुधार लाया जा सकता है।

साबुत अनाज
याददाश्त को तेज करने के लिए दिमाग को ग्लूकोज की जरूरत होती है और साबुत अनाज इसके लिए बेहतरीन है।इसके अतिरिक्त साबुत अनाज फाइबर का बेहतरीन स्त्रोत होता है, जो पाचन क्रिया को दुरुस्त रखने में मदद कर सकता है, इसलिए डाइट में साबुत अनाज का होना महत्वपूर्ण है।आप चाहें तो मल्टीग्रेन ब्रेड, होल ग्रेन टॉर्टिला और ब्राउन पास्ता आदि के रूप में साबुत अनाज खा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top