Home Uncategorized ब्लैक फंगस को लेकर केंद्र ने किया अलर्ट, जाने क्या है अपडेट

ब्लैक फंगस को लेकर केंद्र ने किया अलर्ट, जाने क्या है अपडेट

केंद्रीय मंत्री मनसुख मंडाविया ने गुरुवार को बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि म्यूकोरमाइकोसिस(ब्लैक फंगस) के इलाज में उपयोगी दवा एम्फोटेरिसीन-बी की कमी के मुद्दे का जल्द समाधान किया जाएगा। कई नई दवा कंपनियों को इस औषधि के विनिर्माण की मंजूरी दी गई है।

नई दिल्ली, एजेंसी। कोरोना महामारी के दौरान अब ब्लैक फंगस चिंता का कारण बन गया है। केंद्र सरकार ने सभी राज्यों को पत्र लिखकर ब्लैक फंगस के लिए अलर्ट किया है। वहीं राजस्थान, गुजरात, हरियाणा, तेलंगाना और तमिलनाडु इस ब्लैक फंगस को पहले ही महामारी घोषित कर चुके हैं। दिल्ली में भी इसके मरीजों के इलाज के लिए अलग से सेंटर्स बनाए जा रहे हैं

तेजी से बढ़ रहे ब्लैक फंगस इंफेक्शन के केस 

स्वास्थ्य मंत्रालय के ज्वॉइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल ने राज्यों से कहा कि ब्लैक फंगस इंफेक्शन के केस बहुत ज्यादा बढ़ रहे हैं और इससे कोरोना मरीजों की मौतों की संख्या भी बढ़ रही है। हमारे सामने यह एक नई चुनौती है। कई राज्यों के कोरोना मरीजों में म्यूकर माइकोसिस नाम का फंगल इन्फेक्शन सामने आया है। ये खास तौर से उन मरीजों में दिखाई दे रहा है, जिन्हें स्टेरॉयड थेरेपी दी गई है और जिनका शुगर लेवल अनियंत्रित है।

ब्लैक फंगस के इलाज में बरतें सावधानी

इस बीमारी का इलाज कई मोर्चों पर करना होता है। इसमें आई सर्जन, ENT स्पेशलिस्ट, जनरल सर्जन, न्यूरोसर्जन और डेंटल मैक्सीलो सर्जन भी शामिल हैं। इसके इलाज में एम्फ्टोथेरेसिन-B इंजेक्शन को इलाज के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है, जो कि एक एंटीफंगल मेडिसिन है।

ICMR द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन किया जाए

आप ब्लैक फंगस को महामारी एक्ट 1897 के तहत गंभीर बीमारी घोषित कीजिए। इसके तहत सभी सरकारी और निजी स्वास्थ्य केंद्रों पर ब्लैक फंगस की निगरानी, पहचान, इलाज और इसके मैनेजमेंट पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और ICMR द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन किया जाए। ब्लैक फंगस के सभी मामलों की रिपोर्ट जिला स्तर के चीफ मेडिकल ऑफिसर को की जाए। इंटीग्रेटेड डिजीज सर्विलांस प्रोग्राम सर्विलांस सिस्टम में भी इसकी जानकारी दी जाए।

ब्लैक फंगस सबसे ज्यादा खतरा किसे?

जिन मरीजों को डायबिटीज की बीमारी है। डायबिटीज होने के बाद स्टेरॉयड या टोसीलिजुमाब दवाइयों का सेवन करते हैं, उन पर इसका ज्यादा खतरा है। कैंसर का इलाज करा रहे मरीज या किसी पुरानी बीमारी से पीड़ित मरीजों में ब्लैक फंगस का अधिक रिस्क है। जो मरीज स्टेरॉयड को अधिक मात्रा में ले रहे हैं, उन्हें भी खतरा है।

कोरोना से पीड़ित गंभीर मरीज जो ऑक्सीजन मास्क या वेंटिलेटर के जरिये ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं, ऐसे मरीजों को भी सतर्क रहने की जरूरत है।

कैसे करें ब्लैक फंगस की पहचान

नाक से खून बहना, पपड़ी जमना या काला-सा कुछ निकलना। नाक का बंद होना, सिर और आंख में दर्द, आंखों के पास सूजन, धुंधला दिखना, आंखों का लाल होना, कम दिखाई देना, आंख को खोलने-बंद करने में दिक्कत होना।

चेहरे का सुन्न हो जाना या झुनझुनी-सी महसूस होना। मुंह को खोलने में या कुछ चबाने में दिक्कत होना।

ऐसे लक्षणों का पता लगाने के लिए हर रोज खुद को अच्छी रोशनी में चेक करें ताकि चेहरे पर कोई असर हो तो दिख सके।  दांतों का गिरना, मुंह के अंदर या आसपास सूजन होना।

 राजस्थान में ब्लैक फंगस महामारी घोषित

राजस्थान में अब तक 400 लोग ब्लैक फंगस का शिकार हुए हैं। जयपुर में 148 लोग इससे संक्रमित। जोधपुर में 100 मामले सामने आए। 30 केस बीकानेर और बाकी अजमेर, कोटा और उदयपुर में हैं। सरकार ने महामारी घोषित किया। ब्लैक फंगस के केस, मौतों और दवा का हिसाब रखना होगा।

दिल्ली सहित इन राज्यों में भी तेजी से फैल रहा ब्लैक फंगस

देश के विभिन्न हिस्सों में इसके कई मामले सामने आए हैं और कई जगह मौतें भी दर्ज की गई हैं। अकेले महाराष्ट्र में ही ब्लैक फंगस के कारण 90 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। गौरतलब है कि इस फंगल इंफेक्शन के कई मामले अब तक उत्तर प्रदेश, दिल्ली, राजस्थान, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश में दर्ज किए गए हैं। दिल्ली में  के मरीज 300 के पार हो चुके हैं। इंजेक्शन की कमी होने के चलते ऑपरेशन करने पड़ रहे हैं। एम्स में एक सप्ताह में 80 मरीज भर्ती हुए हैं। 30 की हालत गंभीर है। मप्र में अभी तक ब्लैक फंगस के 585 मरीज बताए जा रहे हैं। अभी तक बीमारी को महामारी घोषित नहीं किया गया है।

गुजरात में ब्लैक फंगस के 1200 मामले, महामारी घोषित

मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने भी कहा कि हमने ब्लैक फंगस को महामारी घोषित कर दिया है। अब सरकारी और निजी अस्पताल, मेडिकल कॉलेज इस बीमारी के बारे में केंद्र की गाइडलाइंस का पालन करेंगे। इसकी निगरानी और इलाज में भी ICMR की गाइडलाइंस का पालन किया जाएगा। गुजरात के 4 शहरों में ही ब्लैक फंगस के 1200 मामले सामने आए हैं।

हरियाणा में भी महामारी घोषित स्टेरॉयड की बिक्री पर भी रोक

पूरे प्रदेश में ब्लैक फंगस के 177 मरीज हैं। इस संक्रमण को महामारी घोषित करने वाला हरियाणा पहला राज्य था। राज्य का औषधि विभाग स्टेरॉयड की बिक्री पर भी रोक लगा चुका है।

ब्लैक फंगस तेलंगाना में महामारी 

तेलंगाना सरकार ने ब्लैक फंगस को महामारी एक्ट में नोटिफाई करने की जानकारी दी है। तेलांगना में ब्लैक फंगस के 80 मामले सामने आ चुके हैं।

तमिलनाडु में भी ब्लैक फंगस महामारी घोषित

राज्य में अब तक महज 9 केस सामने आए हैं, लेकिन दूसरे राज्यों की स्थिति को देखते हुए इसे महामारी एक्ट में नोटिफाई करने का फैसला लिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने किया मिशन ड्रग्स Free देवभूमि का शुभारम्भ

मिशन ड्रग्स फ्री देवभूमि को जन अभियान बनाने के लिए मुख्यमंत्री ने किया प्रदेश के युवाओं का आह्वाहन युवा नशे को दृढ़ता से कहें ना-सीएम नशे...

सड़क दुर्घटनाएँ चिंतनीय विषय : एसीएस डॉ. राजौरा

मध्यप्रदेश राज्य सड़क सुरक्षा क्रियान्वयन समिति की बैठक मध्य-प्रदेश; अपर मुख्य सचिव डॉ. राजेश राजौरा ने सड़क दुर्घटनाओं पर चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि इसे...

केन्द्रीय रक्षा मंत्री सिंह से प्रदेश के उद्यानिकी राज्य मंत्री कुशवाह ने की भेंट

मध्य-प्रदेश : केन्द्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से प्रदेश के उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भारत सिंह कुशवाह ने नई दिल्ली में...

केन्द्रीय मंत्री रेड्डी से प्रदेश के उद्यानिकी राज्य मंत्री कुशवाह ने की भेंट

मध्य-प्रदेश ; केन्द्रीय संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री जी. किशन रेड्डी से प्रदेश के उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)  भारत सिंह कुशवाह ने...

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आम, नीम और खिरनी के पौधे लगाए

"नर सेवा-नारायण सेवा" समिति के सदस्य पौध-रोपण में शामिल हुए मध्य-प्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने श्यामला हिल्स स्थित उद्यान में आम, नीम और खिरनी के...

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लोकार्पित की 75 ई-बाइक्स

स्मार्ट सिटी उद्यान से हरी झण्डी दिखा कर किया रवाना मुख्यमंत्री चौहान ने भी चलाई ई-बाइक मध्य-प्रदेश : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने श्यामला हिल्स स्थित उद्यान...

कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज ने चौबट्टाखाल को फिर दिया 37 करोड़ की योजनाओं का तोहफा

जयहरीखाल (पौडी)। चौबट्टाखाल विधायक और प्रदेश के पंचायती राज, पर्यटन, लोक निर्माण, सिंचाई, ग्रामीण निर्माण, जलागम, धर्मस्व एवं संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने एक...

पुलिस ने देशभक्ति और जन-सेवा के मूल मंत्र को साकार किया : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

कोविड काल में सेवा का नया अध्याय रचा गया मुझे गर्व है प्रदेश के पुलिस प्रशासन पर मुख्यमंत्री ने संभागायुक्त, आईजी, पुलिस कमिश्नर, कलेक्टर तथा पुलिस...

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वरिष्ठ पत्रकार स्व. सत्यनारायण श्रीवास्तव की पुण्य-तिथि पर किया पौध-रोपण

मध्य-प्रदेश ; मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने श्यामला हिल्स स्थित उद्यान में प्रदेश के वरिष्ठ पत्रकार रहे स्व. श्री सत्यनारायण श्रीवास्तव की स्मृति में 42...

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने हास्पिटल सहित अपने क्षेत्र को दी 100 करोड़ 70 लाख की योजनायें

एकेश्वर (पौडी)। प्रदेश के पंचायती राज, पर्यटन, लोक निर्माण, सिंचाई, ग्रामीण निर्माण, जलागम, धर्मस्व एवं संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने अपने विधानसभा क्षेत्र एकेश्वर...