Wednesday, July 6, 2022
Home मध्यप्रदेश सरकारी कर्मचारी कर सकेंगे प्राइवेट नौकरी और बिजनेस, जानिए सरकार क्या उठाने...

सरकारी कर्मचारी कर सकेंगे प्राइवेट नौकरी और बिजनेस, जानिए सरकार क्या उठाने जा रही कदम

मध्य प्रदेश के कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर है. अगर सरकार की योजना ठीक रही तो कर्मचारी प्राइवेट नौकरी भी कर पाएंगे और बिजनेस भी. शिवराज सरकार कुछ शर्तों के साथ फरलो स्कीम लागू कर सकती है. इससे उसके करोड़ों रुपए बचेंगे। 

भोपाल। 

वित्तीय घाटा कम करने के लिए मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार सरकारी कर्मचारियों के लिए नई योजना ला सकती है. योजना ऐसी होगी जिसके तहत सरकारी कर्मचारी नौकरी में रहते हुए अपना खुद का बिजनेस या दूसरी प्राइवेट नौकरी भी कर सकेंगे। फरलो स्कीम नाम की इस योजना पर अभी विचार चल रहा है और अगर इसे अमल में लाया गया तो सरकारी कर्मचारियों को यह राहत मिल सकती है।

गौरतलब है कि, इसके कुछ नियम भी होंगे, जिन्हें कर्मचारियों को मानना होगा। फरलो स्कीम के तहत सरकारी कर्मचारी 5 साल तक अपने मूल काम से छुट्टी लेकर दूसरा काम कर सकेंगे. इनमें प्राइवेट नौकरी या बिजनेस जैसे काम शामिल हैं। इस दौरान सरकारी कर्मचारियों को 50% वेतन मिलता रहेगा और उनकी वरिष्ठता पर भी कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

क्या होगा फायदा ? 

मौजूदा वक्त में मध्य प्रदेश सरकार सरकारी कर्मचारियों के वेतन भत्तों पर करीब 60000 करोड़ रुपए खर्च कर रही है।  अगर फरलो स्कीम को अमल में लाया जाता है तो सरकार को करीब 7000 करोड़ रुपए तक की बचत हो सकती है।  मौजूदा वक्त में मध्य प्रदेश सरकार की वित्तीय स्थिति नाजुक है और सरकार पर करीब ढाई लाख करोड़ का कर्ज हो चुका है। ऐसे में खर्चों में कटौती और बचत के रास्ते जनता पर बिना टैक्स का बोझ बढ़ाए लागू करना जरूरी हो गया है।

दिग्विजय सरकार लाई थी पहली बार

हालांकि ऐसा नहीं है कि फरलो स्कीम पहली बार मध्य प्रदेश में लागू करने की बात की जा रही हो. इससे पहले साल 2002 में तत्कालीन दिग्विजय सरकार ने इस स्कीम का फार्मूला लागू किया था. लेकिन, बाद में जब बीजेपी की सरकार आई तो फिर इस योजना को बंद कर दिया गया. लेकिन अब जबकि सरकार बचत के अलग-अलग रास्ते तलाश रही है तो इस योजना पर भी विचार किया जा रहा है.

किसानों के बिजली कनेक्शन आधार से जोड़ने की तैयारी

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की शिवराज सिंह चौहान सरकार बिजली घाटा कम करने की कोशिश में है. इस मामले में बनाए गए ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने सरकार को कुछ सुझाव दिए हैं, इसके तहत सब्सिडी खर्च को कम करने का सुझाव है. सुझाव है कि किसानों के बिजली कनेक्शन को आधार से जोड़ दिया जाए. एक किसान को सिर्फ एक ही सब्सिडी वाला कनेक्शन दिया जाए. ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स के इस सुझाव को अगर अमल में लाया जाता है तो सब्सिडी के करीब 17 सौ करोड़ रुपए बच सकते हैं.

सरकार को दी गई सलाह में कहा गया है कि एक किसान को केवल एक ही सब्सिडी वाला कनेक्शन दिया जाए और अगर उसके और कनेक्शन है तो उन पर सामान्य दर से ही बिजली बिल वसूला जाए. इस पर अभी सरकार ने अंतिम फैसला नहीं किया है लेकिन यह माना जा रहा है कि सब्सिडी का खर्च बचाने के लिए सरकार ग्रुप ऑफ मिनिस्टर के इस सुझाव पर अमल कर सकती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Post

निवेशकों को सुरक्षित निवेश की गारंटी देता है उत्तराखण्ड : मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी

उत्तराखण्ड में आतिथ्य क्षेत्र में निवेश की संभावनाओं पर सीएम ने निवेशकों से की चर्चा 05 साल में उत्तराखण्ड को पर्यटन क्षेत्र में बनाएंगे सर्वोपरि  उत्तराखंड  मुख्यमंत्री...

क्या आपने 2.5 लाख रुपये किलो वाला आम देखा है, आईये हम आपको लिए चलते हैं वहां जहाँ ये आम होते हैं , 12 खूंखार...

मध्यप्रदेश, जबलपुर:  आम को फलों का राजा कहा जाता है क्योंकि ये खाने में बहुत ही स्वादिष्ट होता है और ये हमारे देश के सबसे...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने किया विभिन्न क्षेत्रों में सराहनीय योगदान देने वालों का सम्मान।

 उत्तराखंड, देहरादून   मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को राजपुर रोड स्थित स्थानीय होटल में दैनिक जागरण के 25 वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर...

29 अगस्त को होगा खेल छात्रवर्ती योजना का विधिवत शुभारंभ,माननीय मुख्यमंत्री धामी करेंगे योजना का शुभारंभ – रेखा आर्या

 उत्तराखंड, देहरादून ; आज यमुना कॉलोनी स्थित शासकीय आवास पर खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती रेखा आर्या ने खेल विभाग के अधिकारियों के साथ...

देहरादून ! लीना मणिमेकलाई द्वारा निर्मित “काली” डाक्यूमेंट्री फ़िल्म में माँ काली को सिगरेट पीते हुए दिखाने पर बजरंग दल हुआ उग्र…

 उत्तराखंड  वामपंथी मानसिकता से ग्रसित हिन्दू देवी देवताओ को लेकर गलत ढंग से डॉक्यूमेंट्री बनाने वाली लीना मणिमेकलाई की डाक्यूमेंट्री हिन्दु धर्म की देवी माँ...

जनता की भावनाओं से खिलवाड़ करने पर प्रदेश के लिए हुए शहीदों से शहीद स्थल पर जाकर माफी मांगे मुख्य मंत्री धामी: रविंद्र आनंद,गढ़वाल...

Dehradun ; आम आदमी पार्टी के गढ़वाल मीडिया प्रभारी रविंद्र सिंह आनंद ने आज आम आदमी पार्टी के प्रदेश कार्यालय में एक प्रेस वार्ता का...

अलकनंदा नदी में समाई कार, SDRF टीम ने 02 शव किए बरामद, लापता महिला की सर्चिंग जारी

उत्तराखंड, लामबगड़  आज दिनांक 05 जुलाई 2022 को चौकी लामबगड़ से एसडीआरएफ टीम को सूचना प्राप्त हुई कि बदरीनाथ नेशनल हाईवे पर हनुमान चट्टी के...