Friday, August 19, 2022
Home उत्तर प्रदेश 7 वर्षीय बालिका का कलेजा निकाल कर अपने चाचा चाची को खिलाने...

7 वर्षीय बालिका का कलेजा निकाल कर अपने चाचा चाची को खिलाने वालो पर लगा NSA ।

कानपुर। 

संतान प्राप्ति के लिए तांत्रिक द्वारा दी गई सलाह पर 7 वर्षीय बालिका की हत्या करने के बाद उसका कलेजा निकालकर अपने चाचा चाची को खिलाने वाले दो हत्यारोपियों के ऊपर एनएसए (NSA ) लगा दिया गया है। वर्ष 2020 की 14 नवंबर को इस दिल दहलाने वाली घटना को अंजाम दिया गया था।

रविवार को शासन की ओर से वर्ष 2020 की 14 नवंबर को ख़ौफ़नाक वारदात को अंजाम देने वाले दो आरोपियों वीरन और अंकुल पर एनएसए की कार्यवाही की गई है। दोनों आरोपियों ने जादू व तंत्र-मंत्र के चक्कर में एक तांत्रिक के कहने पर 7 वर्षीय बालिका की हत्या कर दी थी और उसका कलेजा निकालकर अपने निसंतान चाचा चाची को खिला दिया था। दरअसल दंपती के कोई संतान नहीं थी, इसलिए उन्होंने अपने भतीजे से बच्ची की हत्या कराई। भतीजे ने अपने एक दोस्त के साथ मिलकर पहले मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म किया और फिर गला दबाकर उसकी हत्या कर दी थी।

इसके बाद हत्यारोपियों ने बेरहमी से बालिका का लीवर निकालकर चाचा-चाची को दे दिया। चाचा-चाची ने लीवर का कुछ हिस्सा खुद खाया और बाकी कुत्ते को खिला दिया था। हत्याकांड को अंजाम देने के लिए दंपती ने भतीजे को महज 500 रुपए और उसके दोस्त को 1000 रुपए दिए थे। घाटमपुर थाना क्षेत्र के भदरस गांव के एक शख्स की 7 साल की बेटी दिवाली पर शनिवार शाम पड़ोस की दुकान पर कुछ सामान लेने गई थी, लेकिन वह घर नहीं लौटी। परिजन रात भर उसकी तलाश करते रहे, पुलिस को भी सूचना दी। सुबह काली मंदिर के पास कुछ लोगों को बच्ची का क्षत-विक्षत शव मिला।

शरीर पर कपड़े नहीं थे। पास में ही खून से सनी उसकी चप्पलें पड़ी थीं। मौका-ए-वारदात पर पड़ताल में तंत्र-मंत्र के कारण वारदात को अंजाम देने अंदेशा जताया गया। ऐसा इसलिए, क्योंकि घटना दिवाली की रात की थी। इस दिन अघोरी साधना वाले अनुष्ठान करते हैं, दूसरा यह कि शव काली मंदिर के सामने मिला था। शरीर के कई अंदरूनी अंग भी गायब थे। पुलिस ने कई दिनों की भागदौड के बाद दो आरोपियों को गिरफ्तार किया तो पता चला कि गांव में रहने वाले परशुराम की शादी 1999 में हुई थी। लेकिन उसे कोई भी संतान नहीं थी। संतान की चाहत में उसने अपने भतीजे अंकुल को बच्ची का कलेजा लाने के लिए तैयार किया। घटना की पूरी जानकारी परशुराम व उसकी पत्नी सुनैना को भी थी।

इस वारदात का मुख्यमंत्री ने संज्ञान लेते हुए सख्त कार्रवाई का आदेश दिया था। पति-पत्नी दोनों जेल में हैं।घाटमपुर थाना प्रभारी ने बताया कि मामले में अंकुल व वीरन ने जमानत के लिए अर्जी दाखिल की थी। इसके चलते अभी इन दोनों के खिलाफ एनएसए की कार्रवाई की गई है। डीएम की संस्तुति के बाद शासन से फैसले पर मुहर लगने के बाद शनिवार को थाना घाटमपुर में मुकदमा दर्ज हुआ। इसके बाद कानपुर देहात की माती जेल में बंद दोनों आरोपितों को एनएसए का नोटिस भी तामील करा दिय गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Post

मुख्यमंत्री धामी ने किया ’उत्तराखण्ड राज्य सीनियर बैडमिंटन प्रतियोगिता’ का शुभारंभ।

उत्तराखंड, देहरादून मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरुवार को बहुउद्देशीय क्रीडा भवन, परेड ग्राउंड, देहरादून में उत्तरांचल राज्य बैडमिंटन एसोसिएशन द्वारा आयोजित ’उत्तराखण्ड राज्य सीनियर...

18

17

16

15

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी उत्सव कार्यक्रम में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से.नि) ने प्रतिभाग किया।

उत्तराखंड, देहरादून ; गुरुवार को पुलिस लाइन, देहरादून में आयोजित श्रीकृष्ण जन्माष्टमी उत्सव कार्यक्रम में  राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से.नि) ने बतौर मुख्य अतिथि...

13

12

मुख्यमंत्री ने किया बोधिसत्व विचार श्रृंखला ‘बिन पानी सब सून’ संगोष्ठी को सम्बोधित, जल संरक्षण एवं संवर्धन के लिये समेकित प्रयासों की बतायी जरूरत।

उत्तराखंड, देहरादून मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरुवार को मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय स्थित सभागार में आयोजित बोधिसत्व विचार श्रृंखला - बिन पानी सब सून विचार...

10