Tuesday, August 9, 2022
Home उत्तराखंड पिथौरागढ़: इस साल भी कोरोना की भेंट चढ़ा इंडो-चाइना ट्रेड, सैकड़ों परिवारों...

पिथौरागढ़: इस साल भी कोरोना की भेंट चढ़ा इंडो-चाइना ट्रेड, सैकड़ों परिवारों के सामने रोजी-रोटी का संकट

भारतीय व्य़ापारी चीन की तकलाकोट मंडी से सामान के बदले अपनी जरूरत की चीजें लाते थे।

भारत-चीन युद्ध के बाद 1991 से 2019 तक इंडो-चाइना ट्रेड बदस्तूर जारी रहा। लिपू पास से होने वाले इस ट्रेड में उच्च हिमालयी इलाकों के सैकड़ों व्यापारी शिरकत करते थे।

पिथौरागढ़।

कोरोना वायरस के चलते इस साल भी इंडो-चाइना ट्रेड पर संकट के बादल मंडरा गए हैं। बीते 30 सालों में ये पहली बार होगा जह लगातार दो सालों तक भारतीय व्यापारी चीन की मंडी नही जा पाएंगे। वस्तु विनिमय के आधार पर होने वाला इंडो-चाइना ट्रेड जहां खुद में अनौखा व्यापार है, वहीं इससे सैकड़ों परिवारों की रोजी-रोटी भी जुड़ी है। भारत-चीन युद्ध के बाद 1991 से 2019  तक इंडो-चाइना ट्रेड बदस्तूर जारी रहा। लिपू पास से होने वाले इस ट्रेड में उच्च हिमालयी इलाकों के सैकड़ों व्यापारी शिरकत करते थे। ये व्यापारी घोड़े-खच्चरों से चीन तक अपना सामान पहुंचाते थे और इन्हीं की मदद से चीन से भी सामान लाते थे। लेकिन बीते साल की तरह इस साल भी कोरोना की मार इंटरनेशनल ट्रेड पर पड़ी है। आमतौर पर इंडो-चाइना ट्रेड जून में शुरू हो जाता था, लेकिन इस बार विदेश मंत्रालय से कोई निर्देश नहीं मिले हैं। डीएम आनंद स्वरूप ने बताया कि ट्रेड को लेकर अभी तक केद्र सरकार की ओर कोई दिशा निर्देश नहीं मिला है। ऐसे में तय है कि इस साल भी इंडो-चाइना ट्रेड नहीं होगा।

भारतीय व्य़ापारी चीन की तकलाकोट मंडी से सामान के बदले अपनी जरूरत की चीजें लाते थे। चीन ने लाए सामान के जरिए ही गुंजी और उसके आस-पास के गांवों की जरूरतें पूरी होती हैं। गुंजी भले ही भारत की सबसे बड़ी बॉर्डर मंडी हो, बावजूद इसके यहां का बाजार चीनी सामान से पटा रहता था। आलम ये था कि यहां भारत के सामान के मुकाबले चीनी सामान सस्ता मिलता है। यही नहीं तीन महीने तक होने वाले ट्रेड के दौरान गुंजी मंडी पूरी तरह आबाद भी रहती थी। लेकिन बार यहां हर तरफ सन्नाटा पसरा है।

लिपु पास से होने वाले ट्रेड का खासा महत्व रहा है

भारतीय व्यापारी ईश्वर सिंह का कहना है कि लगातार दो सालों तक ट्रेड नहीं होने से बॉर्डर के सैकड़ों व्यापारियों के सामने आर्थिक संकट गहरा गया है। लिपु पास से होने वाला इंडो-चाइना ट्रेड बॉर्डर इलाकों की अर्थ व्यवस्था का केन्द्र भी है। चीन के साथ भारत का वस्तु विनिमय के आधार पर स्थलीय ट्रेड सिर्फ उत्तराखंड और हिमाचल से होता है। लेकिन व्यापारियों की संख्या के लिहाज से लिपु पास से होने वाले ट्रेड का खासा महत्व रहा है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Post

प्रभारी स्वास्थ्य सचिव डॉ आर राजेश कुमार के ताबड़तोड़ छापों से स्वास्थ्य महकमें में हड़कम, जानिए देहरादून से हरिद्वार तक किन अस्पतालों में मारे...

देहरादून / हरिद्वार ।  प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ बनाने व इसका लाभ आम-जन को पहुंचाने हेतु स्वास्थ्य विभाग प्रतिबद्ध है। इसी क्रम में...

संचालित इकाइयों के विस्तार और नवीन निवेश के लिए देंगे पूरा सहयोग : मुख्यमंत्री चौहान

 मध्य प्रदेश ; मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से आज वोल्वो आयशर कमर्शियल व्हीकल्स लिमिटेड के एमडी श्री विनोद अग्रवाल ने भेंट कर मध्यप्रदेश में 1,500...

मुख्यमंत्री चौहान ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से नगरीय निकाय के जन-प्रतिनिधियों को किया संबोधित

 मध्य-प्रदेश  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में नगरीय निकायों के सभी वार्डों में हर घर पर तिरंगा फहराने जन-जागरण लाने कोई...

सूचना भवन में किया गया कोविड बूस्टर डोज वैक्सीनेशन कैंप का आयोजन

 उत्तराखंड,  देहरादून   सूचना एवं लोक संपर्क विभाग द्वारा सोमवार को रिंग रोड स्थित सूचना भवन निदेशालय में कोविड बूस्टर डोज वैक्सीनेशन कैंप का आयोजन किया...

14

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोजताल पर क्रूज में तिरंगा फहराकर जनता से की अपील “हर घर तिरंगा” अभियान से जुड़ें सभी नागरिक सभी...

 मध्य-प्रदेश   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आजादी के अमृत महोत्सव में हम वीर स्वतंत्रता सेनानियों को याद कर रहे हैं, जिन्होंने रक्त...

मुख्यमंत्री चौहान ने स्वास्थ्य संस्थाओं के लिए एक क्लिक से अंतरित किए 66 करोड़ रूपए, प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं को किया गया पुरस्कृत

मध्य-प्रदेश ; मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश स्वास्थ्य के क्षेत्र में हमेशा प्रथम रहे, इसके लिए निरंतर प्रयास किए जाएँ। भारत...

11

10

मंदसौर में भगवान पशुपतिनाथ की शाही सवारी में शामिल हुए मुख्यमंत्री चौहान

मध्य-प्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज मंदसौर में भगवान पशुपतिनाथ के दर्शन कर पूजा-अर्चना की। श्रावण-भादौ मास में भगवान पशुपतिनाथ पालकी में सवार होकर...