राज्य ब्यूरो, देहरादून।

प्रदेश में 2022 के विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस अपना कैंपेन धारदार बनाएगी। केंद्र और राज्य सरकार की विफलता को शहरों से लेकर गांवों में मजबूती से रखने के लिए ठोस रोडमैप तैयार किया जाएगा। सोमवार को प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव ने नई दिल्ली में अपने आवास पर प्रदेश के तीनों दिग्गज नेताओं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह, नेता प्रतिपक्ष डा इंदिरा हृदयेश और पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के साथ बैठक की। बैठक में चुनावी रणनीति पर मंथन हुआ। यह भी तय हुआ कि इस कड़ी में दूसरे दौर की वार्ता 12 जून को होगी।

कोरोना की दूसरी लहर के सुस्त पड़ने के बीच कांग्रेस आगामी चुनाव को लेकर अपनी तैयारी तेज करना चाहती है। इस सिलसिले में प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव के बुलावे पर यह अहम बैठक हुई। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत और डा इंदिरा हृदयेश पहले से दिल्ली में मौजूद थे, जबकि प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह सोमवार को दून से दिल्ली पहुंचे। बैठक में तीनों नेताओं ने प्रदेश में पार्टी की मौजूदा स्थिति और आगामी चुनाव की तैयारी के संबंध में विचार रखे। प्रभारी ने कहा कि पार्टी विधानसभा चुनाव को लेकर अत्यंत गंभीर है। इस चुनौती का सामना करने के लिए सभी को ताकत झोंकनी पड़ेगी।

प्रदेश के तीनों नेताओं ने भी धारदार चुनावी कैंपेन पर हामी भरी। यह तय किया गया कि कोरोना काल में पार्टी कार्यकर्त्ता ज्यादा संख्या में जनता के बीच पहुंचकर सेवा कार्य करें। कोरोना संक्रमण कम होने या खत्म होते ही पार्टी को तुरंत चुनावी मोड में लाया जाए। इसके लिए रोडमैप को तमाम पहलुओं पर विचार करने के बाद अंतिम रूप दिया जाएगा। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि चुनाव में मजबूत प्रदर्शन के लिए पार्टी पूरी तरह मुस्तैद है। प्रदेश प्रभारी के साथ इस संबंध में जल्द दूसरी बैठक होगी। बैठक के बाद प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह देर शाम दून लौट आए।

अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं: देवेंद्र यादव

प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव से उनके दिल्ली स्थित आवास पर सोमवार को प्रदेश महामंत्री संगठन विजय सारस्वत, प्रदेश उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप, राजेंद्र शाह, अजय सिंह व संदीप चमोली ने भेंट की। तकरीबन एक घंटा चली इस बैठक में प्रदेश प्रभारी ने राज्य में संगठन के भीतर अनुशासन बनाए रखने पर जोर दिया। साथ ही कहा कि अनुशासनहीनता करने वालों को बाहर का रास्ता दिखाने में देर नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि पार्टी एकता और अनुशासन से चलेगी तो 2022 में पार्टी की जीत तय है। पार्टी में चल रही तमाम तरह की चर्चाओं को उन्होंने नकार दिया।